चीन में कोरोनावायरस की वजह से मौतों की संख्या दो हजार के पार पहुंची,रूस ने प्रवेश करने पर लगाई रोक

Image result for coronavirus china

चीन से फैले खतरनाक कोरोनावायरस की वजह से होने वाली मौतों की संख्या दो हजार के पार पहुंच गई है। इसके अलावा 70 हजार से ज्यादा लोग इस वायरस से संक्रमित हो चुके हैं। 20 फरवरी से सभी चीनी नागरिकों को रूस में प्रवेश करने से रोक लगा दी हैं।चीन में कोरोनावायरस से एक अस्पताल के निदेशक की मंगलवार को मौत हो गई। देश में कोरोनावायरस से अब तक छह चिकित्साकर्मियों की मौत हो चुकी है और 1,716 कर्मी इससे संक्रमित हैं।चीन के शंघाई में कोरोनावायरस के चलते स्कूल बंद हैं और बच्चों की पढ़ाई में आ रही रुकावट को देखते हुए अब उन्हें ऑनलाइन माध्यम से पढ़ाया जाएगा।

क्रूज के सभी मुसाफिरों और चालक दल के सदस्यों की जांच का काम पूरा हो गया है।इस पर्यटन जहाज पर दक्षिण कोरिया के 400 यात्री कोरोना से पीड़ित पाए गए हैं और अब उनका देश उन्हें वहां से ले जाने की तैयारी कर रहा है। ब्रिटेन भी अपने नागरिकों को निकालने की तैयारी में हैं। इस जहाज पर अबतक 542 लोगों में कोरोना वायरस का पता चल चुका है।

ह्यूमनॉइड रोबोट सोफिया 29 फरवरी को मोहाली टायकॉन में हिस्सा लेने पहुंचेगी

Image result for ह्यूमनाइड रोबोट सोफिया

इंसानों की तरह दिखने वाली सऊदी अरब की नागरिक ह्यूमनॉइड रोबोट सोफिया इन दिनों भारत में हैं।यूनाइटेड स्टेट से सोफिया को भारत में कई हिस्सों में बांटकर अलग-अलग बॉक्स में रखकर लाया गया है। ऐसा सुरक्षा कारणों के चलते किया गया है, जिससे दुनिया भर के खुराफाती हैकर उसकी वास्तविक लोकेशन ट्रेस न कर पाएं। 29 फरवरी को सोफिया मोहाली के इंडियन स्कूल ऑफ बिजनेस में होने जा रहे टायकॉन में हिस्सा लेने पहुंचेगी। इससे पहले वह अक्टूबर, 2019 में इंदौर में आयोजित 51वीं राउंड स्क्वेयर कांफ्रेंस में शामिल हुई थीं।सोफिया, जो दुनिया की पहली सोशल ह्यूमनॉइड रोबोट हैं। इनको सऊदी अरब में नागरिकता मिल चुकी है। वहीं टायकॉन में कई देशों के नुमाइंदे और निवेशक हिस्सा लेंगे। इन सबके बीच सोफिया अपनी उपयोगिता और कार्यप्रणाली के बारे में खुद बताएंगी। सोफिया को इंसानों जैसा दिखने और बात करने के कारण दुनिया भर में काफी लोकप्रियता मिली है।

रोबोट सोफिया की सबसे खास बात यह है कि इसे लोगों से बातचीत करने और उनके साथ काम करने के लिए खास तौर से डिजाइन किया गया है। उन्हें इस तरह से प्रोग्राम किया गया है कि यह आम इंसान जैसी ही कार्यशील हों। सोफिया का निर्माण हांगकांग की कंपनी हैंनसन रोबोटिक्स ने किया है। डेविड हैनसन ने टेक्सास शहर में 14 फरवरी, 2016 को सोफिया को पहली बार लॉन्च किया था।सोफिया की त्वचा को ‘फरबर’ नामक एक रबड़ से बनाया गया है, जिससे वह काफी हद तक इंसानों जैसी ही दिखाई देती है।सोफिया की आवाज गूगल की पेरेंट कंपनी अल्फाबेट इंक ने बनाई है। वहीं दिमाग का निर्माण आर्टिफिशियल इंटेलिजेंस के क्षेत्र में काम करने वाली कंपनी सिंगुलैरिटी नेट ने किया है।

मोगा: हेड कांस्टेबल ने एके 47 से अंधाधुंध फायरिंग कर चार को मारा एक गंभीर रूप से घायल

मोगा/पंजाब: हलका धर्मकोट के गांव सैदपुरा जलाल में पंजाब पुलिस हेड कांस्टेबल ने पत्नी और उसके परिजनों पर अपनी सरकारी राइफल से अंधाधुंध फायरिंग कर दी। फायरिंग में हवलदार की पत्नी, सास, साले और साले की पत्नी की मौत हो गई।साले की 10 वर्षीय बेटी गोली के छर्रे लगने से गंभीर रूप से घायल हो गई। उसे मोगा के सिविल अस्पताल में दाखिल करवाया गया।  

कुलविंदर सिंह निवासी शहीद भगत सिंह नगर मोगा पंजाब पुलिस में बतौर हेड कांस्टेबल नौकरी करता है।मायके से जायदाद में हिस्सा नहीं लिया तो पत्नी से इस बात को लेकर झगड़ा हो गया।काफी समय से वह अपनी पत्नी राजविंदर कौर पर दबाव बना रहा है कि वह मायके की जायदाद में हिस्सा ले।

मायके से जायदाद में हिस्सा नहीं लिया तो कुलविंदर सिंह ने पत्नी और उसके परिजनों पर अपनी सरकारी राइफल से अंधाधुंध फायरिंग कर दी। फायरिंग में हवलदार की पत्नी, सास, साले और साले की पत्नी की मौत हो गई। वहीं साले की 10 वर्षीय बेटी गोली के छर्रे लगने से गंभीर रूप से घायल हो गई। उसे मोगा के सिविल अस्पताल में दाखिल करवाया गया। आरोपी के ससुर, छोटे साले और आरोपी के बेटे ने घर से बाहर भागकर जान बचाई। हत्या करने के आरोपी थाना धर्मकोट में एके-47 राइफल समेत पहुंचा और आत्मसमर्पण कर दिया।

एसएसपी मोगा हरमनबीर सिंह का कहना है कि आरोपी हवलदार कुलविंदर सिंह का अपने ससुराल परिवार के साथ पैसे व जमीन को लेकर कुछ विवाद चल रहा था। इसको लेकर उसने तैश में आकर अपनी पत्नी समेत ससुराल परिवार के चार लोगों की जान ले ली। आरोपी से पूछताछ की जा रही है। जांच के दौरान जो भी खुलासे होंगे उसी के मुताबिक कार्रवाई की जाएगी।

29 फरवरी तक फास्ट टैग मुफ्त में उपलब्ध कराए जाएंगे

इलैक्ट्रॉनिक टोल कलेक्शन को बढ़ावा देने के लिए नेशनल हाईवे अथॉरिटी ऑफ इंडिया ने 29 फरवरी तक फास्टैग शुल्क माफ करने का फैसला किया है। बुधवार को भारत सरकार ने 527 से ज़्यादा नेशनल हाईवे पर फास्टैग सेवा शुरू करने का ऐलान किया है।

सड़क परिवहन और हाईवे मंत्रालय ने अपने स्टेटमेंट में कहा कि राष्ट्रीय राज्यमार्ग प्लाज़ा पर उपभेक्ता शुल्क की डिजिटल वसूली को बढ़ाने के लिए नेशनल हाईवे अथॉरिटी ऑफ इंडिया ने फैसला किया है कि NHAI फास्ट टैग पर 15 फरवरी से 29 फरवरी 2020 के दौरान 100 रुपए फास्टैग शुल्क माफ किया जाएगा।

सड़क पर वाहन चलाने वाले सभी यूज़र्स किसी भी अधिक्रत विक्रय स्थल पर जाकर अपना मान्य रजिस्ट्रेशन सर्टिफिकेट दिखाकर मुफ्त में NHAI फास्टैग ले सकते हैं।

NHAI फास्टैग सभी नेशनल हाईवे टोल प्लाज़ा, रीजनल ट्रांसपोर्ट ऑफिस, सामान्य सर्विस सेंटर्स, ट्रांसपोर्ट हब और पेट्रोल पंप के साथ कई अन्य जगहों से खरीदा जा सकता है।फास्टैग के लिए लगने वाले सिक्युरिटी डिपॉज़िट और फास्टैग वॉलेट के लिए मिनिमम बैलेंस अमाउंट में कोई परिवर्तन नहीं किया गया है।

NHAI ने पहले ऐलान किया था कि 22 नवंबर से 15 दिसंबर तक NHAI फास्टैग मुफ्त में उपलब्ध कराए जाएंगे।

पिछले महीने सड़क परिवहन और हाईवे मिनिस्टर नितिन गडकरी ने कहा था कि नेशनल हाईवे पर NHAI फास्टैग लग जाने पर डिजिटल कलेक्शन 68 करोड़ से बढ़कर 87 करोड़ रुपए रोज़ाना पहुंच गया है।एक बार डिजिटल सिस्टम पूरी तरह लागू हो जाने पर रोज़ाना 100 करोड़ रुपए कमाई का अनुमान है।

लखनऊ: बीजेपी विधायक पर लगा बलात्कार का आरोप पीड़िता का 30 दिन तक विधायक और उसके परिवार वालो ने किया रेप

भदोही से भारतीय जनता पार्टी के विधायक रवीन्द्रनाथ त्रिपाठी समेत उनके परिवार के छह लोगों पर एक महिला ने महीनों बलात्कार करने का आरोप लगाया है। इसके बाद ज़िले की राजनीति में हड़कंप मच गया। एसपी ने पूरी जांच एडिशनल एसपी को सौंप दी है। 15 दिन में जांच रिपोर्ट आएगी। विधायक रवीन्द्रनाथ त्रिपाठी ने इसे सियासी साज़िश और फ़र्ज़ी मामला बताया। पीड़िता का कहना है कि पहले भाजपा विधायक का भतीजा संदीप तिवारी शादी का झांसा देकर उससे महीनों तक रेप करता रहा और उसके बाद विधायक सहित उसके परिवार के अन्य लोग भी इसमें शामिल हो गए।

पीड़िता का कहना है कि यहां के विधायक के भतीजे संदीप तिवारी ने उसमे शादी का झांसा देकर छह साल तक मेरा शोषण किया। जब मैंने शादी को लेकर दवाब डाला तो बहुत परेशान किया गया और जब मना कर दिया तब मुझे यह फैसला लेना पड़ा। महिला मुंबई की रहने वाली है।उसके मुताबिक वो ट्रेन में संदीप तिवारी से मिली। संदीप ने शादी की बात कहकर उसका शारीरिक शोषण किया। फिर विधायक सहित उनके दूसरे करीबियों ने भी उसके साथ बलात्कार किया।

करनाल: घर में अकेली रह रही महिला को जानवरों ने नोच कर मर डाला पुलिस कर रही है जांच

सेक्टर-14 के हाउस नंबर-69 में रिटायर्ड स्कूल प्रिंसिपल का शव मिला। जिसे जानवरों ने नोचा हुआ था। जब बदबू पड़ोसियों तक पहुंची तो उन्होंने पुलिस को सूचना दी। पुलिस के अनुसार शव कई दिन पुराना है। जानवरों ने उसे बुरी तरह नोचा है, जिसमें उसकी हड्डियां तक नजर आ रही थी। सेक्टर-13 चौकी पुलिस ने मौके पर पहुंचकर जांच की और एफएसएल टीम को बुलाया। पुलिस ने शव को पोस्टमार्टम के लिये कल्पना चावला मेडिकल कॉलेज के पोस्टमार्टम हाउस में रखवा दिया है। अंबाला से गुरुवार को महिला के परिजन आयेंगे तभी पोस्टमार्टम कराया जायेगा। अभी पुलिस मौत के कारणों का पता नहीं लगा पाई है।

पड़ोसियों को आई बदबू तभी किया पुलिस को फोन
पड़ोसियों ने बताया कि यह बुजुर्ग महिला घर में ही रहती थी। जब घर से बदबू आई तो उन्होंने इसकी सूचना पुलिस को दी। पुलिस ने मौके पर जाकर देखा तो महिला का शव फर्श पर पड़ा था।पुलिस ने जब घर में जाकर जांच की तो पड़ोसी के मकान से लगी करीब तीन फुट ऊंची दीवार पर कुत्ते व बिल्ली के पांव के निशान मिले। जो खून से सने थे। ऐसे में आशंका जाहिर की जा रही है कि शव को कुत्तों ने नोचा होगा। घर के आसपास कुत्ते भी घूमते दिखाई दिए।

पति से तलाक के बाद अकेली रहती थी महिला
रिटायर्ड स्कूल प्रिंसिपल चंचल शर्मा के भतीजे अंबाला निवासी अनिल ने बताया कि इनके पति गोपाल शर्मा भी प्रिंसिपल थे वह करनाल के असंध के सरकारी स्कूल से रिटायर्ड हुए थे। 2012 में उनकी मौत हो गई थी। करीब 30 साल पहले ही किसी कारणवश चंचल शर्मा और गोपाल शर्मा के बीच तलाक हो गया था। गोपाल शर्मा अंबाला में रहते थे और चंचल शर्मा अकेली करनाल सेक्टर-14 हाउस नंबर 69 में रहती थी। वह झज्जर से रिटायर्ड हुई थीं। अक्सर वह उनसे मिलते जुलते थे। करीब एक महीने पहले वह उससे मिलकर गये थे उस दौरान वह ठीक थीं। अभी पुलिस मामले की जांच कर रही है। मौत के कारणों का पता नहीं चल पाया है।

संगरूर के युवक का शव गलती से यूपी भेजा अब शव को वापिस मंगवा रही हैं पुलिस

मालवा के जाने-माने अस्पतालों में शुमार सरकारी राजिंदरा अस्पताल में बुधवार को बड़ी लापरवाही सामने आई। अस्पताल ने संगरूर के एक युवक का शव उसके परिजनों की जगह किसी अन्य मृतक के घरवालों को सौंप दिया। जब युवक के परिजनों ने हंगामा किया तो पुलिस ने तुरंत कार्रवाई करते हुए शव वापस मंगाया। खबर लिखे जाने तक मामले में जांच चल रही थी कि गलती किसकी है।

सरकारी राजिंदरा अस्पताल पुलिस चौकी के इंचार्ज जपनाम सिंह ने बताया कि मंगलवार को संगरूर की अजीत नगर बस्ती से फौजी सिंह (30) को लाया गया था। उसने जहर निगल लिया था। अस्पताल के डॉक्टरों ने उसे मृत घोषित कर दिया। पुलिस केस होने के कारण शव का पोस्टमार्टम होना था। बुधवार सुबह जब फौजी सिंह के परिजन शव लेने के लिए अस्पताल पहुंचे तो पता चला कि फौजी सिंह के शव की गलत शिनाख्त करके यूपी के जिला गोंडा के रहने वाले कुछ लोगों को सौंप दिया गया है।

मंगलवार रात ही वह लोग शव को लेकर गोंडा के लिए रवाना हो गए थे। गौरतलब है कि गोंडा का रहने वाला राम कुमार पटियाला के कस्बा देवीगढ़ में किसी जमींदार के पास काम करता था। उसकी जहर खाने से मंगलवार को मौत हो गई थी। राम कुमार के परिजन गलत शिनाख्त के कारण राम कुमार की जगह फौजी सिंह का शव अपने साथ ले गए।

फौजी सिंह के परिजनों ने अस्पताल परिसर में हंगामा कर दिया। मामला पुलिस तक पहुंचा और पुलिस ने तुरंत कार्रवाई करते हुए फोन करके फौजी सिंह के शव को वापस मंगाया है जो जल्द पटियाला पहुंच जाएगा। राजिंदरा चौकी इंचार्ज ने कहा कि मामले में जांच की जा रही है। जिसकी भी गलती होगी उसके खिलाफ जांच के बाद कानूनी कार्रवाई की जाएगी।

चंडीगढ़: मनीमाजरा में दो गुटों के बीच गोली चली पुलिस दोनों गुटों की तलाश कर रही है

शिवालिक गार्डन के सामने आरएमआईटी वर्ल्ड स्कूल के साथ बने कम्युनिटी सेंटर के बाहर बुधवार रात दो गुटों में झड़प के बाद गोली चलने से हड़कंप मच गया। हालांकि गोली किसी को लगी नहीं। वारदात के बाद मौके से दोनों गुटों के लोग फरार हो गए। कम्युनिटी सेंटर के पास स्थित खेल मैदान में फुटबाल खेल रहे लड़के गोली की आवाज सुनकर डर गए।

इसी दौरान मैदान में मौजूद युवक रणदीप सिंह ने तुरंत पुलिस कंट्रोल रूम को गोली चलने की सूचना दी। सूचना मिलते ही मनीमाजरा थाना प्रभारी जसविंदर कौर और डीएसपी ईस्ट दिलशेर सिंह चंदेल पुलिस बल के साथ मौके पर पहुंच गए और छानबीन शुरू कर दी। पुलिस ने चश्मदीद रणदीप सिंह के बयानों के आधार पर मामला दर्ज कर जांच शुरू कर दी है।

वहीं, देर रात तक पुलिस न तो गोली चलाने वालों का सुराग लगा सकी और न ही उन लोगों का पता लगा पाई, जिन पर गोली चलाई गई। पुलिस को शक है कि इनमें से एक गुट शांति नगर निवासी एक युवक का जबकि दूसरा गुट इंदिरा कालोनी या माजरी कालोनी का हो सकता है। फिलहाल पुलिस सभी एंगलों से मामले की जांच में जुट गई है।

आसपास लगे सीसीटीवी कैमरों को भी खंगाला जा रहा है। जांच में यह सामने आया है कि शांति नगर निवासी युवक अक्सर अपने 30-40 लड़कों से साथ यहां देर रात तक खड़ा रहता है। वह 2017 में पंचकूला में हुए एक मर्डर केस में शामिल था और बीते साल ही जेल से छूटा है।

वहीं, चश्मदीद गवाह रणदीप ने भी पुलिस को बताया है कि जब वह बुधवार रात करीब नौ बजे खेलने के बाद जब ग्राउंड से अपने घर की तरफ जा रहा था तो उसने देखा कि कम्युनिटी सेंटर के सामने वाली पार्किंग में करीब 50-60 लड़के आपस में लड़ रहे थे, तभी उनमें से एक युवक ने पिस्टल निकालकर दो राउंड फायरिंग कर दी, जिससे सब इधर-उधर भागने लगे।

इनमें से कुछ लड़के भागकर कम्युनिटी सेंटर के अंदर चले गए जबकि गोली चलाने वाला युवक अपने कुछ साथियों के साथ सफेद रंग की बोलेरो में बैठकर फरार हो गया। गोली चलने से कोई जानी नुकसान नहीं हुआ। वहीं, गोली चलने की आवाज से ग्राउंड में खेल रहे बच्चे सहम गए। पुलिस नाकाबंदी कर देर रात तक आरोपियों की तलाश में जुटी रही।

पुलिस की नाकाबंदी के दौरान 500 ग्राम चरस पकड़ी गई

पुलिस को मिली गुप्त सूचना के आधार पर शाहपुर के पास पुलिस टीम की नाकाबंदी के दौरान तीन युवकों को 500 ग्राम चरस के साथ गिरफ्तार किया। गुप्त सूचना के आधार पर की गई कार्रवाई में आरोपियों की पहचान हिमाचल प्रदेश के कुल्लू, मंगलौर वासी तरूण उर्फ हैप्पी, प्रीतम उर्फ पिंकू व बीरबल के तौर पर हुई। पड़ाव थाने में एनडीपीएस एक्ट का केस दर्ज किया गया। रविवार सभी को ड्यूटी मजिस्ट्रेट के समक्ष पेश कर दो को चार दिन की रिमांड पर जबकि तरूण को 14 दिन की न्यायिक हिरासत में भेज दिया गया। दो को रिमांड पर लिया गया जबकि एक को न्यायिक हिरासत में भेज दिया है।पूछताछ के दौरान मेन सप्लायर को पकड़ने के प्रयास जारी हैं।

अब ट्रैफिक नियम तोड़ने वालो को अमेरिका, कनाडा, ऑस्ट्रेलिया का नहीं मिलेगा वीजा

ट्रैफिक पुलिस अब ट्रैफिक नियम तोड़ने वालों के ख़िलाफ़ नया नियम लागू करने जा रही है। लुधियाना के पुलिस कमिश्नर राकेश अग्रवाल ने बताया है कि लुधियाना में ट्रैफिक की समस्या बढ़ती जा रही है जिसे दिखते हुए अब ट्रैफिक नियम तोड़ने वालो के ख़िलाफ़ सख्त कार्यवाही की जाएगी।

लुधियाना पुलिस ने बताया कि अगर कोई ट्रैफिक नियमों का उलंघन करता है जैसे रेड लाईट क्रॉस करना, शराब पीकर गाड़ी चलाना,ट्रैफिक पुलिस कर्मी से गलत भाषा में बात करना जैसे कोई भी नियमों का उलंघन करता पाया जाता है तो इनका एक डाटा त्यार करके एंबेसी को भेजा जाएगा और जब भी कोई विदेश जाने के लिए अप्लाई करेगा उसके प्वाइंट कम होने के कारण वीजा नहीं मिलेगा।ट्रैफिक नियमों का उलंघन करने वालो का डाटा कनाडा, अमेरिका, बरतानिया और ऑस्ट्रेलिया एंबेसी को भेज दिया जाएगा। जब भी कोई विदेश जाने के लिए अप्लाई करेगा तब उनको वीजा नहीं दिया जाएगा।