दिल्ली:उन्नाव की बेटी का हश्र देख दिल्ली की महिला ने अपनी ही छह साल की बच्ची पर डाला पेट्रोल

 

दिल्ली में सफदरजंग अस्पताल के बाहर उन्नाव दुष्कर्म केस के खिलाफ प्रदर्शन कर रही एक महिला ने अपनी छह साल की बेटी पर पेट्रोल डालकर आग लगाने की कोशिश की।लेकिन पुलिस की सजगता के चलते वह कामयाब न हो सकी।पुलिस ने उसे हिरासत में ले लिया और बच्ची को इलाज के लिए इमरजेंसी वार्ड में भेज दिया।

उन्नाव: हैदराबाद की डॉक्टर से हैवानियत के बाद उन्नाव में गुरुवार को एक और दिल दहला देने वाला मामला आया सामने

unnao rape burning case

हैदराबाद की डॉक्टर से हैवानियत के बाद उन्नाव में गुरुवार को एक और दिल दहला देने वाला मामला सामने आया। यहां एक सामूहिक दुष्कर्म की शिकार युवती को दरिंदों ने पेट्रोल डालकर आग लगा दी। आग की लपटे देख बहादुर बेटी घबराई नहीं। वो अपनी जान बचाने के लिए एक किमी कस्बे की तरफ भागी। लपटों से घिरी युवती को देख कुछ लोगों ने आग बुझाकर उसके कपड़े बदले।आग से झुलसी बहादुर लड़की ने हिम्मत नहीं हारी और एक व्यक्ति के मोबाइल से डायल 112 पर सूचना दी।मौके पर पहुंची पुलिस उसे सीएचसी सुमेरपुर अस्पताल में लेकर पहुंची। लड़की की हालत गंभीर होने की वजह से लड़की को जिला अस्पताल रेफर कर दिया।

unnao rape burning case

बहादुर बिटिया ने गंभीर हालत में भी मजिस्ट्रेट को बयान दिए।आईजी रेंज लखनऊ ने मौका मुआयना कर गांव वालों से भी बातचीत की है।

unnao rape burning case

उन्नाव की दुष्कर्म पीड़िता की हालत देख डॉक्टरों की भी आंखें नम हो रही थीं। बर्न यूनिट के प्रमुख डॉ. शलभ और चिकित्सा अधीक्षक डॉ. सुनील गुप्ता ने बताया कि पीड़िता को वेंटिलेटर पर रखा गया था।डॉक्टरों के अनुसार इस तरह की घटनाओं में शुरूआत के तीन दिन यानि 72 घंटे काफी मायने रखते हैं। अगर यह समय निकल जाए तो काफी हद तक उसे बचाया जा सकता है। लेकिन इस बेटी की हालत ज़्यादा नाज़ुक होने से इसने 44 घंटे में ही दम तोड़ दिया।

पुलिस ने जानकारी देते हुए बताया कि19 सितंबर को शिवम ने कोर्ट में सरेंडर कर दिया था। पांच दिन पहले 30 नवंबर को ही जमानत पर छूटा था। बृहस्पतिवार सुबह करीब चार बजे उन्नाव के बिहार थाने के गौरा मोड़ के पास पीड़ित युवती पेशी की तारीख पर वकील से मिलने रायबरेली जा रही थी।वह अकेले ही पैदल बैसवारा रेलवे हाल्ट स्टेशन की तरफ बढ़ रही थी। घर से एक किमी दूर शिवम व शुभम समेत पांच लोगों ने उसे घेर लिया। डंडे से सिर और गले पर चाकू से हमला कर दिया। इससे वह सड़क पर गिर गई। इसके बाद आरोपियों ने पेट्रोल और केरोसिन डालकर उसे आग के हवाले कर दिया। लपटों से घिरी युवती जान बचाने के लिए दौड़ी। लेकिन उस बहादुर बिटिया ने हार नहीं मानी मोबाइल से डायल 112 पर सूचना दी।मौके पर पहुंची पुलिस उसे  अस्पताल में लेकर पहुंची।पुलिस ने पाँचो आरोपियो को हिरासत में ले लिया है।

पीड़िता के पिता ने मांग कि है कि जैसे हैदराबाद में पुलिस ने आरोपियों को मारा, वैसे ही हमारी बेटी से दरिंदगी करने वालों को दौड़ा-दौड़ाकर मौत के घाट उतारा जाना चाहिए, नहीं तो आरोपियों को फांसी पर लटका देना चाहिए। उन्होंने आगे कहा कि आरोपियों को सजा मिलने के बाद ही बेटी की आत्मा को शांति मिल पाएगी।

हैदराबाद:तेलंगाना पुलिस ने महिला डॉक्टर के साथ हैवानियत करने वाले चारों आरोपियों को मुठभेड़ में मार गिराया

Image result for priyanka reddy RAPIST ENCOUNTER photos"

हैदराबाद: तेलंगाना के हैदराबाद में महिला डॉक्टर के साथ सामूहिक दुष्कर्म और हत्या के चारों आरोपियों को पुलिस ने शुक्रवार सुबह मुठभेड़ में ढेर कर दिया। हैदराबाद के पुलिस आयुक्त ने चारों आरोपियों की मौत की पुष्टि की है। उन्होंने बताया कि

महिला डॉक्टर के साथ हैवानियत करने वाले चारों आरोपियों को पुलिस ने ठीक उसी जगह पर मार गिराया है जहां उन्होंने पीड़िता के साथ दरिदंगी को अंजाम दिया था। पुलिस सूत्रों के अनुसार आरोपियों ने उस समय भागने की कोशिश की जब उन्हें मौका-ए-वारदात पर पूरी घटना का क्राइम सीन रिकंस्ट्रक्ट करने के लिए ले गई थी।  क्राइम सीन रिक्रिएट करने के दौरान आरोपी पुलिस से हथियार लेकर भागने की कोशिश कर रहे थे। जिसके बाद पुलिस ने उनका पीछा करते हुए रोकने के लिए गोली चलाई। जिसमें चारों आरोपियों की मौत हो गई।

महिला पशु चिकित्सक के पिता ने कहा, ‘मेरी बेटी की मौत को दस दिन हो चुके हैं। मैं इसके लिए पुलिस और सरकार के प्रति आभार व्यक्त करता हूं। अब मेरी बेटी की आत्मा को शांति मिलेगी।’

साइबराबाद पुलिस कमिश्नर सज्जन्रार ने कहा कि 4 और 5 दिसंबर को हमने आरोपी को पुलिस हिरासत में लेने के बाद पूछताछ की थी। आज पुलिस ने जांच के दौरान क्राइम सीन रीकंस्ट्रक्ट करने के लिए आरोपी को अपराध स्थल पर लाया। इसके बाद आरोपियों ने पुलिस पर हमला किया और उनसे हथियार छीन लिए और उन्होंने पुलिस पर गोलीबारी शुरू कर दी।

इसके बाद पुलिस ने उन्हें चेतावनी दी और आत्मसमर्पण करने के लिए कहा लेकिन वे गोलियां चलाते रहे। फिर हमने गोलाबारी की और वे मुठभेड़ में सभी मारे गए। मुठभेड़ के दौरान पुलिस के दो जवान घायल हो गए हैं। उन्हें स्थानीय अस्पताल में भेज दिया गया है।

हमने आरोपी व्यक्तियों से दो हथियार भी जब्त किए हैं। आरोपियों के शव को पोस्टमार्टम के लिए स्थानीय सरकारी अस्पताल में भेज दिया गया है। मुठभेड़ के समय आरोपी व्यक्तियों के साथ लगभग 10 पुलिस थे। हमने घटनास्थल से पीड़ित का मोबाइल फोन भी बरामद किया है। मैं केवल यह कह सकता हूं कि कानून ने अपना कर्तव्य निभाया है।

पंचकूला:10वीं क्लास की छात्रा ने पार्क में खुद को आग लगा ली

Image result for girl panchkula fire"

पंचकूला:10वीं क्लास की छात्रा ने गुरुवार रात सेक्टर-7 के कॉर्नर पार्क में खुद को आग लगा ली। बुधवार को स्कूल से आने के बाद वह घर से ट्यूशन गई, पर वहां नहीं पहुंची। इसके अगले दिन उसने खुद को आग लगाकर सुसाइड कर लिया। सड़क से एक बाइक सवार गुजर रहा था। उसने शोर मचाया कि एक लड़की जल रही है। मकानों से तीन चार लोग बाहर आए और आग बुझाने की कोशिश की। एक ने जैकेट से आग को बुझाने की कोशिश की, जबकि दूसरा घर से पानी लाकर आग बुझाने लगा। लोगो ने घटना की जानकारी पुलिस की दी लेकिन जब तक पुलिस आई तब तक लड़की नीचे गिर चुकी थी। पुलिस ने लड़की को अस्पताल में पहुंचाया गाया इलाज दौरान उसकी मौत हो गई

पुलिस ने मामला दर्ज कर लिया है। लड़की की पहचान कनिका के रूप में हुई कनिका ढकाैली की रहने वाली थी और मानव मंगल स्कूल की छात्रा थी।  बुधवार को पिता द्वारा कनिका को डांटने की भी बात सामने आ रही है। कुछ समय से वह डिप्रेशन में भी थी। उसको मैथ्स को लेकर परेशानी आ रही थी।उसके माता पिता के बयान दर्ज किए जा रहे हैं। लड़की के पिता ने पुलिस को बताया कि लड़की घर से ट्यूशन जाने की बात कह कर निकली थी। उसकी ट्यूशन की फीस देने जब घरवाले टीचर के घर गए तो उन्हें पता चला कि वह तो ट्यूशन गई ही नहीं। उसके बाद लड़की से फोन पर संपर्क किया गया तो उसने अपनी सहेली के घर होने की बात कहीं। उसके बाद लड़की ने अचानक फोन बंद कर दिया। उसके बाद उसके सुसाइड किए जाने की बात पता चली। परिवार में उसका किसी से कोई झगड़ा नहीं हुआ था और ना ही उनको किसी पर कोई शक है। मौके पर पर्स में उसका मोबाइल,पानी की बोतल में पेट्रोल, कुछ मनाली के टिकट मिले हैं, जबकि एक बड़ा चाकू भी बरामद हुआ है। बताया जा रहा है कि लड़की ने जब अपने आप को आग लगाई तब वह एक ही बात बोलती रही कि मुझे नहीं जीना, मुझे इस जगह से नफरत है।

पंचकूला पुलिस के साइबर सेल को मौके पर बुला लिया गया था, क्योंकि लड़की का जो मोबाइल मिला है, वह खुल नहीं रहा उसमें लॉक लगा हुआ है। । साइबर सेल की टीम जाँच कर रही है। पिछले दो दिनों की लोकेशन के साथ ही एक महीने की कॉल डिटेल निकाली जा रही है। पुलिस को किसी युवक पर शक है, जो कनिका के साथ मनाली एरिया की ओर गया हो। उसके साथ विवाद होेेने के बाद कनिका ने सुसाइड जैसा कदम उठाया हो।

मोहाली: 3बी2 की मार्केट में रात 2 बजे युवक और उसके दोस्तो ने अंधाधुन गोलियां चलाई

मोहाली: 3बी2 की मार्केट में रात 2 बजे युवक और उसके दोस्तो ने जूस की दुकान के शटर पर अंधाधुन फायरिंग कर दी। बताया जा रहा को युवक और उसके दोस्तो ने 6 राउंड फायर किए। युवक मरस्टिज कार में आए नशे में थे।

पुलिस ने युवक को हिरासत में ले लिया था। युवक की पहचान सैक्टर 91 में रहने वाले जसप्रीत के रूप में हुई है। जसप्रीत अपने दोस्तो के साथ रात 2 बजे 3बी2 की मार्केट में आया। जसप्रीत और उसके दोस्तो ने मार्केट में खड़े होकर शोर मचाया और इसके बाद जसप्रीत ने अपनी लाइसेंसी 32बोर गन से जूस की दुकान पर अंधाधुन गोलियां चलाई।पुलिस ने आर्म्स एक्ट के तहत मामला दर्ज कर लिया है।

अमृतसर: बॉर्डर फेंसिंग के पास बीएसएफ फायरिंग में पाकिस्तान जा रहे युवक की मौत

Image result for बीएसएफ बीओपी रोड़ावाला

अमृतसर: बॉर्डर फेंसिंग के पास बीएसएफ बीओपी रोड़ावाला के करीब सुबह 7.30 बजे पाक की तरफ जा रहे युवक पर बीएसएफ के जवानों ने फायरिंग कर दी। इससे युवक की मौके पर ही मौत हो गई। फिलहाल मरने वाले की पहचान नहीं हो पाई है।

एसएसओ घरिंडा मोहित कुमार ने जानकारी दी कि बीएसएफ जवानों ने आरोपी को कंटीली तारों की तरफ जाते हुए देखा। उसे रुकने के लिए आवाज दी, लेकिन आरोपी रुका नहीं और फेंसिंग की तरफ भागने लगा। इसके चलते बीएसएफ कर्मियों को गोली चलानी पड़ी।

चंडीगढ़ः 25 हजार की रिश्वत लेने के मामले में एसआई और एक अन्य आरोपी को दिया दोषी करार

Related image Demo Pic

चंडीगढ़: सीबीआई अदालत ने मनीमाजरा थाने में हत्या के प्रयास का केस दर्ज न करने के एवज में 25 हजार रुपये रिश्वत लेने के मामले में दो आरोपियों एसआई कुलवर्णजीत सिंह चीमा और सुभाष धीमान को दोषी करार दिया है। दोषी एसआई पिंजौर के शिव कॉलोनी और सुभाष धीमान मनीमाजरा का रहने वाला है। अदालत ने सजा पर फैसला 27 नवंबर तक सुरक्षित रख लिया है।

मामला 24 सितंबर 2012 का है। मनीमाजरा निवासी मनप्रीत सिंह ने सीबीआई को शिकायत दी थी कि उसका भाई हरबंस है। हरबंस के मकान मालिक ने उस पर किसी अन्य मामले को लेकर शिकायत की थी। इस पर आरोपी कुलवर्णजीत सिंह उसके भाई पर हत्या प्रयास की धारा के तहत मामला दर्ज न करने के एवज में 50 हजार रुपये रिश्वत की मांग कर रहा है।

कुलवर्णजीत सिंह मनीमाजरा के पुलिस स्टेशन में सब इंस्पेक्टर तैनात था। आरोपी ने मनप्रीत को एक पार्टी में सुभाष धीमान नाम के व्यक्ति को मिलकर पैसे देने को कहा। मनप्रीत रिश्वत नहीं देना चाहता था, जिसके बाद उसने इसकी सूचना सीबीआई को दे दी। सीबीआई ने शिकायत पर ट्रैप लगाया। सीबीआई ने सुभाष धीमान को 25 हजार रिश्वत लेते रंगेहाथ गिरफ्तार कर लिया।

सुभाष धीमान से पूछताछ में एसआई कुलवर्णजीत सिंह चीमा का नाम सामने आया। इसके बाद सीबीआई ने 25 सितंबर 2012 को आरोपी एसआई को गिरफ्तार कर लिया। दोनों पर भ्रष्टाचार अधिनियम की धारा के तहत मामला दर्ज किया।

चंडीगढ़: परमीश वर्मा पर हमले का मामला गैंगस्टर बुड्डा के कबूलनामे से हुआ रोचक, पर रेनू अभी भी कोर्ट में नही पेश हुई

Image result for parmish verma

चंडीगढ़:सिंगर परमीश वर्मा पर हुए हमले के मामले की सोमवार को जिला अदालत में सुनवाई हुई। इस दौरान मामले की एक आरोपी रेनू अदालत में पेश नहीं हुई। इसके बाद अदालत ने मामले की अगली सुनवाई 16 दिसंबर निश्चित की है। हालांकि उम्मीद यह जताई जा रही थी कि केस में आरोपियों पर चार्ज फ्रेम किए जाने हैं, लेकिन यह काम एक बार फिर लटक गया है।

जानकारी के मुताबिक रेनू गैंगस्टर गौरव उर्फ लक्की पटियाल की पत्नी है। वह लगातार पिछली दो सुनवाइयों पर गैर हाजिर रह रही है। इसे अदालत की तरफ से गंभीरता से लिया जा रहा है। अगर वह अदालत में अगली सुनवाई पर पेश नहीं हुई तो अदालत द्वारा उसे भगोड़ा घोषित करने की कार्रवाई शुरू कर दी जाएगी।

इससे पहले पांच नवंबर को जिला अतिरिक्त सेशन जज की तरफ से रेनू को अदालत में पेश न होने पर नोटिस जारी किया गया था। लेकिन नोटिस उसके खुड्डा लाहौरा स्थित घर पर किसी के द्वारा रिसीव नहीं किया गया था। यह नोटिस वापस आ गया था।

ऐसे हुआ था सिंगर पर हमला
जानकारी के मुताबिक गत वर्ष 14 अप्रैल की रात को साढ़े 12 बजे के करीब गायक परमीश वर्मा पर कुछ लोगों ने हमला कर दिया था। यह हमला उस समय हुआ था, जब वह मोहाली के सेक्टर 91 स्थित अपने घर कार में लौट रहे थे। परमीश वर्मा व उनका दोस्त कुलवंत सिंह चाहल भी घायल हो गए थे।

इसके बाद पुलिस द्वारा इंडस्ट्रियल एरिया फेज-8बी मोहाली स्थित पुलिस चौकी में कुलवंत सिंह निवासी गांव डडहेड़ा जिला पटियाला के बयानों पर अज्ञात हमलावरों खिलाफ केस दर्ज किया गया था। बाद में पुलिस ने दिलप्रीत ढाहां व अन्य कई लोगों को गिरफ्तार किया था। इस केस में आरोपी दिलप्रीत सिंह बाबा सहित दो आरोपी जेल में बंद हैं। जबकि तीन आरोपियों की जमानत हो चुकी है।

पुलिस दिलप्रीत सिंह बाबा, हरजिन्द्र सिंह उर्फ आकाश, अर्शदीप सिंह उर्फ अर्श, अरुण कुमार उर्फ सन्नी व गौरव पटियाल की पत्नी रेनू के खिलाफ अदालत में चालान पेश कर चुकी है, लेकिन आरोपियों के खिलाफ अभी अदालत में आरोप तय नहीं हो सके हैं।

गैंगस्टर बुड्डा के कबूलनामे से मामला हुआ रोचक
दूसरी तरफ अब यह मामला और भी रोचक हो गया है। पुलिस कस्टडी में आरोपी गैंगस्टर सुखप्रीत सिंह उर्फ बुड्डा कबूल चुका है कि उसने परमीश वर्मा से बीस लाख की वसूली की थी। दूसरी तरफ पाकिस्तान में बैठे कई खालिस्तानी समर्थकों से उसके लिंक सामने आए गए। उसने बताया कि उसने कई बार उनकी मदद की है।

चंडीगढ़ःसोनू शाह की हत्या में आरोपी मंजीत सिंह शूटर से चंडीगढ़ पुलिस करेगी पूछताछ अब सोनू शाह की हत्या का खुलेगा राज

Image result for arrested jailDemo pic

चंडीगढ़: सोनू शाह की हत्या के केस में शूटर मंजीत को क्राइम ब्रांच तीन दिन के प्रोडक्शन वारंट पर चंडीगढ़ लेकर आई है। आरोपी मंजीत शूटर दिल्ली के तिहाड़ जेल में सजा काट रहा था।मंजीत पर पंजाब, हरियाणा समेत राजस्थान में हत्या और फिरौती समेत कई अन्य धाराओं में दर्जनों मामले दर्ज हैं।सूत्रों के अनुसार, वारदात को अंजाम देने के बाद शूटर मंजीत उर्फ राहुल उर्फ मोटा उर्फ परवा अलग-अलग ठिकानों में छुपा था, जिसे दिल्ली पुलिस की स्पेशल सेल ने बीते 3 नवंबर को सोनीपत के गांव फरमाना से गिरफ्तार किया था।

चंडीगढ़ में हुई सोनू शाह हत्या के मामले में क्राइम ब्रांच टीम सोमवार को शूटर मंजीत को प्रोडक्शन वारंट पर चंडीगढ़ लेकर आई। क्राइम ब्रांच टीम आरोपी से सोनू शाह हत्या मामले पूछताछ करेगी। सूत्रों का कहना है कि मामले में अब पूरी तरह से सोनू हत्या का राज खुलेगा। सूत्रों के अनुसार, सोनू शाह पर गैंगस्टर शुभम और शूटर मंजीत ने गोलियां बरसाई थीं। वारदात के बाद सभी गैंगस्टर पंजाब और हरियाणा के अलग अलग ठिकानों में छिप गए थे।

बता दें कि गैंगस्टर लॉरेंस बिश्नोई ने प्रोडक्शन वारंट के दौरान कबूला था कि उसने ही सोनू शाह की हत्या करवाई है, क्योंकि सोनू शाह उसके काम में टांग अड़ा रहा था। सोनू शाह को फोन कर कर समझाया भी गया कि वह उनके काम के बीच न आए, लेकिन वह नहीं माना। सोनू शाह की हत्या केस में गैंगस्टर लॉरेंस और शुभम से पूछताछ हो चुकी है। सोनू शाह की हत्या का मामला सुलझ तो गया है लेकिन इस केस के कई आरोपी अभी भी पुलिस की गिरफ्त से बाहर हैं। सोनू की हत्या करवाने के लिए गैंगस्टर राजू मसौदी ने हत्यारों को भेजा था। सूत्रों की मानें तो दोनों आरोपी देश छोड़कर फरार हो गए हैं।पुलिस की टीम अब काला राणा और राजू मसौदी का सुराग लगाने में जुटी हुई है।

चंडीगढ़: गवर्नमेंट कॉलेज सेक्टर-11 फोर मेन के प्रिंसिपल की ईमेल पर कॉलेज को बम से उड़ाने की आई धमकी

चंडीगढ़: गवर्नमेंट कॉलेज सेक्टर-11 फोर मेन के प्रिंसिपल की ईमेल पर टेररिस्ट अटैक होने की धमकी आई है। सूचना के आधार पर सेक्टर-11 थाना पुलिस ने डीडीआर दर्ज कर जांच शुरू कर दी है। दिन भर कॉलेज में पुलिस चेकिंग अभियान चलाया। बम स्क्वायड ने कॉलेज में सर्च की इसके बाद ऑपरेशन सेल के कमांडो कॉलेज के गेट पर मौजूद रहे। इतना ही नहीं आईबी भी कॉलेज में जांच करने के लिए पहुंची थी। लेकिन कॉलेज में ऐसा कोई हमला नही हुआ।

बताया गया कि घटना सुबह 9 बजे की है जब कॉलेज प्रिंसिपल ने ईमेल पढ़ी। इसके तुरंत बाद मामले में जानकारी सेक्टर-11 थाना पुलिस को दी गई। पुलिस मौके पर पहुंची और जांच शुरू की।पुलिस ने जानकारी देते हुए बताया कि ईमेल रात को भेजी गई है। सुबह प्रिंसिपल जब कॉलेज पहुंचे तब उसे नोटिस किया गया। अब पुलिस इस मामले में साइबर सेल की मदद ले रही है, ताकि पता लग सके कि यह ईमेल कहां से आई है। इसके बाद उसे भेजने वाले का पता लगाया जा सके।ऐसा चंडीगढ़ में पहली बार नही हुआ है ऐसा धमकी भरा मैसेज एलेंटे माल और पंजाब एंड हरियाणा हाईकोर्ट में रजिस्ट्रार को भी आया था।लेकिन अभी भी इन मामलो का पता पुलिस नही लगा सकी की ये धमकी भरे मैसेज कौन कर रहा है। अब यह पूरा मामला उस ईमेल एड्रेस पर टिका हुआ है, जिससे यह ईमेल आई थी। अब देखना होगा कि चंडीगढ़ पुलिस कब तक इन लोगों तक पहुंचेगी।